Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

शितलाखेत अल्मोडा जिले का एक बेहद लोकप्रिय हिल स्टेशन है। उच्च हिमालय क्षेत्र में स्थित उत्तराखंड का यह लोकप्रिय लोकप्रिय स्थान ऊंचे पहाड़ों पर स्थित है, यह स्थान पूरे वर्ष ठंडा रहता है। ऐसे कई हिल स्टेशन हैं जो शांत वातावरण, सुरम्य दृश्य और सुखद मौसम प्रदान करते हैं। उत्तराखंड कई हिल स्टेशनों की भूमि है, जहां आप जहां चाहें आराम से घूम सकते हैं। लेकिन आज हम आपको शीतलाखेत हिल स्टेशन के बारे में बताने जा रहे हैं जहां आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ यात्रा करके हिल स्टेशन की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।

 Best Hill Station Shitlakhet

उत्तराखंड के खूबसूरत हिल स्टेशन में से एक है शीतलाखेत

उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल के खूबसूरत हिल स्टेशनों में कौसानी, मसूरी, चकराता आदि हिल स्टेशनों पर हर साल पर्यटक आते रहते हैं। अगर आप उत्तराखंड के नए हिल स्टेशन देखना चाहते हैं तो शीतलाखेत हिल स्टेशन आपके लिए सही जगह है। शीतलाखेत हिल स्टेशन पर्यटन स्थल के रूप में बहुत लोकप्रिय तो नहीं है लेकिन जो पर्यटक प्रकृति से एकाकार होकर आध्यात्मिक सुख प्राप्त करना चाहते हैं उनके लिए यह सर्वोत्तम स्थान है।

अल्मोडा जिला मुख्यालय से दक्षिण पश्चिम दिशा में 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। शीतलाखेत हिल स्टेशन अपनी प्राकृतिक सुंदरता और हिमालय की चोटियों के मनोरम दृश्य के लिए प्रसिद्ध है। यहां से हिमालय की लंबी श्रृंखलाएं भी दिखाई देती हैं। चारों ओर से लगभग 1800 हेक्टेयर वन क्षेत्र से घिरा यह कस्बा ग्राम पंचायत सल्ला रौतेला का एक तोक है। शीतलाखेत कुमाऊँ की उन जगहों में से एक है जहाँ बहुत घना जंगल मौजूद है।प्राकृतिक सौन्दर्य से परिपूर्ण शीतलाखेत में बीसवीं सदी के प्रारम्भ से ही आबादी का बसना प्रारम्भ हो गया।

शीतलाखेत में घुमने के लिए अन्य जगह

सल्ला रौतेला निवासी शिरोमणि पाठक पुत्र नरदेव पाठक मूल रूप से अपने गांव से आए थे और खैरना-कर्णप्रयाग पैदल यात्रा मार्ग के किनारे इस रमणीय स्थान पर बसने वाले अपने परिवार के पहले सदस्यों में से थे।उन दिनों पहाड़ी इलाकों तक सड़क यातायात की अच्छी पहुंच नहीं थी। उस समय चारधाम की यात्रा करने वाले पैदल यात्रियों का पड़ाव शीतलाखेत में होता था। वर्ष 1930 के आसपास ‘बालचर सेवा संस्थान’, जिसे बाद में ‘भारत स्काउट गाइड’ के नाम से जाना गया, के श्री राम बाजपेयी इस स्थान पर पहुंचे और उन्होंने शिरोमणि पाठक से यहां ‘उत्तर प्रदेश भारत स्काउट’ के नाम से जमीन ली और गाइड के समर की नींव रखी। प्रशिक्षण केन्द्र का शिलान्यास किया गया।

शीतलाखेत अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। यह पर्यटकों को आकर्षित करता है। दूर दूर के स्थान. शीतलाखेत एक छोटा सा हिल स्टेशन है। लेकिन यह बहुत शांत और सुखद है. यहां आप हिमालय की खूबसूरत चोटियां देख सकते हैं।जहां हर तरफ हरियाली होती है जो उन्हें शांति का अनुभव देती है। वहीं, यहां के प्राचीन मंदिर इतिहास और आस्था से जुड़े हुए हैं।

Best Hill Station Shitlakhet

शहरी जीवन से ऊब चुके लोग अक्सर शांत वातावरण वाली जगहों पर जाना पसंद करते हैं। यह जगह उन लोगों के लिए किसी जन्नत से कम नहीं है।शीतलाखेत धार्मिक दृष्टि से भी अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। यह स्थान प्रसिद्ध संत हैदखंडी महाराज और सोमवार गिरी महाराज की तपस्थली भी रही है। शीतलाखेत में हैडखंडी महाराज द्वारा सिद्धाश्रम की स्थापना भी की गई है। अल्मोडा का यह खूबसूरत शीतलाखेत हिल स्टेशन रानीखेत, कौसानी, बिनसर, जागेश्वर, नैनीताल आदि पर्यटन स्थलों से 1 से 3 घंटे की दूरी पर स्थित है। यहां पर्यटकों के रुकने के लिए होटल, कैंपसाइट और होमस्टे की सुविधाएं हैं।

शीतलाखेत से लगभग 3 किमी की दूरी पर “माँ स्याही देवी” का मंदिर स्थित है। हर साल नए साल के मौके पर यहां भंडारे का आयोजन किया जाता है। मंदिर के मुख्य पुजारी कैलाश नाथ गोस्वामी ने बताया कि मंदिर 11वीं शताब्दी में बना है और 1254 में भगवान गणेश की मूर्ति भी स्थापित की गई है, जो भी सच्चे मन से मां के दरबार में पहुंचकर वरदान मांगता है , उसकी मनोकामना पूर्ण होती है। माता स्याही देवी के दरबार में न सिर्फ उत्तराखंड बल्कि बाहरी राज्यों से भी भक्त आते हैं। पूरे क्षेत्र में माता की कृपा बनी रहती है।

यह मंदिर अल्मोडा क्षेत्र के आसपास 360 डिग्री के उच्चतम बिंदु पर स्थित है। साफ मौसम वाले दिनों में हिमाचल प्रदेश से लेकर उत्तराखंड तक की चोटियाँ देखी जा सकती हैं। यहां के लोग मंदिर परिसर को साफ-सुथरा और अच्छे से बनाए रखते हैं। यदि आप सीतलखेत के निकट हैं तो अवश्य जाएँ।

भालू बांध एक छोटी सी झील है जो चौबटिया बागों के नीचे 3 किमी की दूरी पर स्थित है। इस स्थान से आकर्षक हिमालय पर्वतमाला के बर्फ से ढके पहाड़ों का उत्कृष्ट दृश्य देखा जा सकता है। आप इस खूबसूरत बांध के नजदीक बगीचों में आराम कर सकते हैं। इस बांध को 1903 में ब्रिटिश सरकार द्वारा विकसित किया गया था। यह स्थान कैंपिंग के लिए भी एक आदर्श स्थान है।

Best Hill Station Shitlakhet

ढोकाणे झरना: नैनीताल से अल्मोडा जाने पर लगभग 50 कि.मी. की दूरी पर, अल्मोडा से लगभग 18 कि.मी. पहले 2 कि.मी. अन्दर एक सड़क है जो रामगढ की ओर भी जाती है। यह खूबसूरत झरना उसी स्थान पर मौजूद है, जिसका संचालन कुमाऊं मंडल विकास निगम द्वारा किया जाता है।

शीतलाखेत पहुंचने के अलग रास्ते

अल्मोडा जिले के इस शीतलाखेत हिल स्टेशन का निकटतम हवाई अड्डा उधम सिंह नगर का पंतनगर है, जो लगभग 162 किलोमीटर दूर है। पंतनगर हवाई अड्डा वाया अल्मोडा एक घरेलू हवाई अड्डा है जो उत्तर भारतीय राज्य उत्तराखंड के पंतनगर शहर को भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा संचालित करता है। अगर आप देहरादून-हरिद्वार होते हुए शीतलाखेत जाना चाहते हैं तो निकटतम जौलीग्रांट देहरादून में पड़ेगा।

  • दिल्ली से शीतलाखेत की दूरी: 450 K.M.
  • देहरादून से शीतलाखेत की दूरी: 350 K.M.
  • हरिद्वार से शीतलाखेत की दूरी: 300 K.M.
  • हलद्वानी से शीतलाखेत की दूरी: 90 K.M.
  • अल्मोडा से शीतलाखेत की दूरी: 40 K.M.

सड़क मार्ग से शीतलाखेत पहुंचें-यह रानीखेत, अल्मोडा और हलद्वानी से सड़क मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इसलिए, सड़क मार्ग से सीतलाखेत तक पहुंचना आसान है और इसकी सुंदरता का आनंद भी लेना है। काठगोदाम से शीतलाखेत तक निजी टैक्सी या कैब का किराया एक तरफ के लिए 1500 – 2000 रुपये के बीच है। सीतालाखेत से देहरादून 412 किमी, नैनीताल 7 किमी, अल्मोडा 20 किमी और दिल्ली 482 किमी की दूरी पर स्थित है।

ट्रेन से शीतलाखेत पहुँचें-निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम 125 किलोमीटर दूर है। वाया अल्मोडा (35 कि.मी.)। काठगोदाम रेलवे स्टेशन पूर्वोत्तर रेलवे का एक रेलवे स्टेशन है। रेलवे स्टेशन 35 किमी की दूरी पर स्थित हिल स्टेशन नैनीताल में कार्य करता है। काठगोदाम रेलवे स्टेशन दिल्ली, हावड़ा, लखनऊ और देश के अन्य महत्वपूर्ण स्थानों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *