Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

हिंदू धर्म की पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी-देवता पहाड़ों में रहते हैं। इसके अनुसार उत्तराखंड को देवभूमि भी कहा जाता है। यहां कई मंदिर हैं, जिनका रहस्य आज तक नहीं सुलझ पाया है। ऐसा ही एक मंदिर है रुद्रप्रयाग में। देवभूमि उत्तराखंड के शिखर पर मां भगवती की असीम ‘शक्तिपुंज’ विद्यमान है। कालीमठ मंदिर उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है जो यहां से लगभग आठ किमी दूर है। खड़ी चढ़ाई के बाद कालीशिला दिखाई देती है।

दुष्टों का नाश करने वाली मां भगवती के दर्शन से सभी पाप धुल जाते हैं। माँ काली अच्छे लोगों को फल देती हैं और बुरे लोगों को फल देती हैं। ऐसा माना जाता है कि आज भी मां काली की नजर अपने भक्तों पर रहती है। वैसे तो मां काली के कई मंदिर हैं, लेकिन उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में शक्ति सिद्धपीठ कालीमठ मंदिर भी एक ऐसा मंदिर है जहां मां काली स्वयं विराजमान हैं।

मार्कण्डेय पुराण में एक प्रसंग आता है, जिसमें बताया गया है कि माता पार्वती के शरीर से अम्बिका निकलने के कारण वे कृष्णवर्ण की हो गईं, इसलिए उन्हें काली कहा गया। सिद्ध शक्ति पीठ उत्तराखंड में गढ़वाल और कुमाऊं के 21 शक्तिपीठों में से एक है और साथ ही कालीमठ मंदिर भी है। कालीमठ मंदिर रुद्रप्रयाग जिले के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक है और इस मंदिर को प्रमुख सिद्ध शक्ति पीठों में से एक माना जाता है। भारत। कालीमठ मंदिर हिंदू “देवी काली” को समर्पित है। कालीमठ मंदिर यह प्रणाली गुणवत्ता में बहुत उच्च है और धार्मिक एवं आध्यात्मिक दृष्टि से कामाख्या और ज्वालामुखी मंदिर के समान है।

स्थानीय निवासियों के अनुसार, माता सती ने इसी चट्टान पर मां पार्वती के रूप में दूसरा जन्म लिया था। वहीं कालीमठ मंदिर के पास ही एक और स्थान है जहां के बारे में कहा जाता है कि मां ने “रक्तबीज” का वध किया था. उसका खून जमीन पर न गिरे इसलिए महाकाली अपना मुंह फैलाकर उसका खून चाटने लगी। ऐसा कहा जाता है कि “रक्तबीज” आज भी शिला नदी के तट पर स्थित है।

इस शिला पर माता ने अपना सिर रख दिया।कालीमठ मंदिर की सबसे दिलचस्प बात यह है कि इसमें कोई मूर्ति नहीं है। कालीमठ मंदिर में एक कुंड है, जो चांदी के बोर्ड/श्रीयंत्र से ढका हुआ है। भक्त मंदिर के अंदर स्थित कुंड की पूजा करते हैं, यह पूरे वर्ष में केवल शारदीय नवरात्र में अष्टमी को खोला जाता है। दिव्य देवी को बाहर निकाला जाता है और पूजा भी आधी रात को ही की जाती है, तब केवल मुख्य पुजारी ही उपस्थित होते हैं।

Mysterious Temple Of Kali Kalimath

मान्यता है कि जब महाकाली शांत नहीं हुईं तो भगवान शिव माता के चरणों के नीचे लेट गये। जैसे ही महाकाली ने शिव की छाती में पैर रखा, वह शांत हो गईं और इस कुंड में गायब हो गईं। मान्यता है कि इस कुंड में महाकाली समाहित हैं। कालीमठ में शिव-शक्ति स्थापित हैं। यहां पर महाकाली, महालक्ष्मी, महासरस्वती, गौरी मंदिर और भैरव मंदिर स्थित हैं। यहां अखंड ज्योत निरंतर जलती रहती है।

Mysterious Temple Of Kali Kalimath

मान्यता के अनुसार कालीमठ मंदिर भारत के सबसे शक्तिशाली मंदिरों में से एक है, इसमें शक्ति की शक्ति है। यह एकमात्र स्थान है जहां देवी माता काली अपनी बहनों माता लक्ष्मी और माता सरस्वती के साथ स्थित हैं। कालीमठ में महाकाली, श्री महालक्ष्मी और श्री महासरस्वती के तीन भव्य मंदिर हैं। रुद्रप्रयाग में स्थित है। इसे भारत के सिद्धपीठों में से एक माना जाता है।

यहां रुद्रशूल नामक राजा की ओर से ब्राह्मी लिपि में लिखे शिलालेख लगवाए गए हैं। इन शिलालेखों में भी इस मंदिर का पूरा विवरण है। इस मंदिर की स्थापना शंकराचार्य ने की थी। आज भी यहां रक्तशिला, मातंगशिला और चंद्रशिला स्थित हैं। देश के विभिन्न हिस्सों से यहां हजारों श्रद्धालु आते हैं।

Mysterious Temple Of Kali Kalimath

कैसे पाहुंचे काली मठ मंदिर?

रुद्रप्रयाग जिले के विकासखंड उखीमठ में भी मां काली का प्राचीन मंदिर है। कालीमठ तक गुप्तकाशी से 22 किमी आगे ऋषिकेश गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहुंचा जा सकता है। यहां पहुंचने के लिए जीएमओ, टीजीएमओ, ट्रैफिक, गढ़वाल मंडल विकास निगम की बसें और निजी कारें व टैक्सियां ​​भी ऋषिकेश से गुप्तकाशी तक उपलब्ध हैं।

  • दिल्ली से कालीमठ को दूरी: 350 K.M.
  • देहरादून से कालीमठ को दूरी: 200 K.M.
  • ऋषिकेश से कालीमठ को दूरी: 180 K.M
  • हरिद्वार से कालीमठ को दूरी: 220 K.M.

गुप्तकाशी से स्थानीय जीप, टैक्सी और बस के माध्यम से कालीमठ पहुंचा जा सकता है। मई से अक्टूबर तक का समय कालीमठ की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय है। क्योंकि इस समय चारधाम यात्रा या केदारनाथ यात्रा भी जारी रहती है। इसलिए यात्री केदारनाथ यात्रा के साथ-साथ कालीमठ की यात्रा भी कर सकते हैं। नवरात्रि के दौरान मां काली के दर्शन शुभ माने जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *