Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

मिथक और तर्क दो अलग चीजें हैं। उत्तराखंड एक ऐसी जगह है जहां ये दोनों चीजें मिलकर एक कारण देती हैं। मंदिरों की खूबसूरती के साथ-साथ इनका वर्णन इतिहास में भी किया गया है, कुछ मंदिर तो इतने प्राचीन हैं कि उनका जिक्र रामायण और महाभारत में भी मिलता है। यह उत्तराखंड के मंदिरों को अद्वितीय बनाता है, इन्हीं में से एक है लक्ष्मण सिद्ध। सुदूर इलाके में स्थित ये मंदिर इस बात का प्रमाण हैं कि यहां कोई उन्नत सभ्यता फली-फूली होगी, इसीलिए यहां केदारनाथ की तरह ये मंदिर बनाए गए हैं। वे अपने अस्तित्व का, इतिहास का भी प्रमाण हैं और उस समय का भी प्रमाण देते हैं जिसकी कल्पना करना हमारे लिए कठिन है। उत्तराखंड में ऐसे कई मंदिर हैं जिनका उल्लेख रामायण और महाभारत में किया गया है और जिनका सीधा संबंध उनसे है।

Lakshman Sidh

देहरादून के चार सिद्धो में से एक है लक्ष्मण सिद्ध

हम आपको हमेशा उत्तराखंड में मौजूद विभिन्न मंदिरों की कहानियाँ प्रदान करते रहते हैं। आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जो उत्तराखंड जिले में स्थित है। आज हम बात कर रहे हैं लक्ष्मण सिद्ध मंदिर के बारे में। इन मंदिरों और उनसे जुड़ी परंपराओं से पता चलता है कि ये मंदिर कितने महत्वपूर्ण हैं। आज हम आपको देहरादून के एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका सीधा संबंध रामायण से है और यह आज भी अस्तित्व में है।

देहरादून चार सिद्धों से घिरा हुआ है। ये हैं लक्ष्मण, मांडू, कालू, माणक सिद्ध। उन्हें देहरादून के रक्षक देवता भी कहा जाता है क्योंकि वे देहरादून के द्वार पर स्थित हैं। देहरादून के 4 सिद्धों में लक्ष्मण सिद्ध, कालू सिद्ध, मानक सिद्ध और मांडू सिद्ध हैं। देहरादून का लक्ष्मण सिद्ध मंदिर ऋषि दत्तात्रेय के चौरासी सिद्धों में से एक है। मान्यता है कि रावण के वध के बाद ब्रह्म हत्या के दोष को दूर करने और उससे मुक्ति पाने के लिए भगवान लक्ष्मण ने यहां आकर तपस्या की थी।

Lakshman Sidh

ब्राह्मण हत्या के दोष से मुक्ति पाने के लिए भगवान लक्ष्मण ने कठोर तपस्या की। भगवान दत्तात्रेय ने जन कल्याण के लिए अपने 84 शिष्य बनाए थे और उन्हें अपनी सारी शक्तियां प्रदान की थीं। बाद में ये चौरासी शिष्य 84 सिद्ध कहलाए और उनकी समाधियाँ सिद्धपीठ या सिद्ध मंदिर बन गईं। इन 84 सिद्धों में से चार देहरादून के सिद्ध हैं और इन चार में लक्ष्मण सिद्ध भी हैं।

रामायण के महान युद्ध के बाद. भगवान राम और लक्ष्मण दोनों ने ब्रह्महत्या के पाप से छुटकारा पाने के लिए तपस्या की थी। भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण ने रावण और मेघनाथ की हत्या के पाप से बचने के लिए इसी स्थान पर तपस्या की थी। यह मंदिर या सिद्धपीठ देहरादून से मात्र 13 किलोमीटर की दूरी पर घने जंगलों के बीच बेहद शांत और सुंदर वातावरण में स्थित है। यह सिद्धपीठ देहरादून आईएसबीटी से 12 किलोमीटर की दूरी पर हरिद्वार एनएच 72 राजमार्ग पर स्थित है। यह मंदिर अपने धार्मिक महत्व के साथ-साथ प्राकृतिक सुंदरता के लिए भी काफी प्रसिद्ध है।

Lakshman Sidh

कैसे पहुंचे लक्ष्मण सिद्ध

यहां पहुंचें आप हर्रावाला तक बस या टैक्सी से आसानी से लक्ष्मण सिद्ध मंदिर पहुंच सकते हैं। यहां से आप पैदल चलकर मंदिर के मुख्य परिसर तक पहुंचते हैं। ई-रिक्शा भी उपलब्ध हैं, लेकिन हम आपको पैदल चलने की सलाह देते हैं। कहा जाता है कि यहां सच्चे मन से मांगी गई सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यहां हर रविवार को भक्तों की भीड़ रहती है।

  • दिल्ली से लक्ष्मण सिद्ध की दूरी: 250 K.M.
  • देहरादून से लक्ष्मण सिद्ध की दूरी: 35 K.M.
  • हरिद्वार से लक्ष्मण सिद्ध की दूरी:50 K.M.

इस मंदिर में हर रविवार को कई लोग पूजा करने के लिए इकट्ठा होते हैं। यदि आप भी देहरादून के निवासी हैं या सड़क मार्ग से बाहर से आ रहे हैं तो हम आपको मानसिक शांति के लिए अपने परिवार और प्रियजनों के साथ देहरादून लक्ष्मण सिद्ध मंदिर में जाने की सलाह देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *