Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

पंच केदार के बीच यह केदार केदार का अंतिम मंदिर है जिसे “कल्पेश्वर मंदिर” (“कल्पेश्वर मंदिर”) के नाम से जाना जाता है। यह एकमात्र मंदिर है जो पूरे वर्ष खुला रहता है। बाकी सभी केदार भारी बर्फबारी के कारण शीतकाल के लिए बंद हैं। यह उत्तराखंड के प्रमुख धार्मिक स्थलों में से एक बनता जा रहा है।यहां का मंदिर शिव को समर्पित है। यहां तक ​​पहुंचने के लिए घने जंगलों और पहाड़ी मैदानों से होकर गुजरना पड़ता है। यहां एक बहुत पुराना कल्पेश्वर वृक्ष है। कहा जाता है कि इस शक्ति से जो भी मनोकामना मांगी जाती है वह पूरी हो जाती है।

कल्पेश्वर मंदिर चमोली की उर्गम घाटी (उर्गम घाटी) में है। यह समुद्र तल से लगभग 2134 मीटर की ऊंचाई पर है। हेलिंग (हेलांग) से 11 किमी दूर इस स्थान पर पहुंचने के बाद पहुंचा जा सकता है। दिल्ली से लगभग 475 किलोमीटर की दूरी तय करके यहां पहुंचा जा सकता है।

Story Of Kalpeshwar Mandir

कल्पेश्वर महादेव का नाम कैसे पड़ा

कल्पेश्वर में भगवान शंकर का भव्य मंदिर बना हुआ है। पौराणिक सन्दर्भ के साथ इस पवित्र भूमि के सन्दर्भ में कुछ रोचक कहानियाँ भी हैं, जो इसके महत्व को विस्तार से दर्शाती हैं। ऐसा माना जाता है कि इस स्थान पर महाभारत के युद्ध के बाद विजयी पांडव युद्ध में मारे गए अपने रिश्तेदारों की हत्या के दुःख से पीड़ित होकर आए थे और इस दुःख और पाप से छुटकारा पाने के लिए वेद व्यास से प्रायश्चित का विधान जानना चाहते थे।व्यास जी ने कहा कि कुलघाती का कल्याण कभी नहीं होता, परंतु यदि तुम इस पाप से मुक्ति पाना चाहते हो तो केदारभूमि में जाकर भगवान शिव की आराधना करो। व्यास जी से आदेश और उपदेश पाकर पांडव भगवान शिव के दर्शन के लिए यात्रा पर निकल पड़े।

पांडव सबसे पहले काशी पहुंचे। शिव के आशीर्वाद की कामना की, लेकिन भगवान शिव को इस कार्य में कोई दिलचस्पी नहीं थी।पांडवों को माफ करने से बचने के लिए जब भगवान शिव बैल के रूप में भूमिगत हो गए, तो उनके शरीर के कई हिस्से जमीन के ऊपर ही रह गए। उनके एक अंश की पूजा कल्पेश्वर में भी की जाती है। इस मंदिर में ‘जटा’ या हिंदू धर्म की मान्यता प्राप्त तीन त्रिदेवों में से एक, भगवान शिव के उलझे हुए बालों की पूजा की जाती है।

Story Of Kalpeshwar Mandir

कल्पेश्वर मंदिर ‘पंचकेदार’ तीर्थयात्रा में पांचवें स्थान पर आता है। यहां साल के किसी भी समय जाया जा सकता है। इस छोटे से पत्थर के मंदिर तक एक गुफा के माध्यम से पहुंचा जा सकता है। शिव की भुजाएं ‘तुंगनाथ’ में, नाभि ‘मध्यमेश्वर’ में, मुख ‘रुद्रनाथ’ में और जटा ‘कल्पेश्वर’ में प्रकट हुईं। इन चारों स्थानों को पंचकदार के नाम से जाना जाता है। इन चार स्थानों के साथ ही श्री केदारनाथ को ‘पंचकेदार’ भी कहा जाता है।

क्या है कल्पेश्वर मंदिर का रहस्य?

पांडवों को माफ करने से बचने के लिए जब भगवान शिव बैल के रूप में भूमिगत हो गए, तो उनके शरीर के कई हिस्से जमीन के ऊपर ही रह गए। उनके एक अंश की पूजा कल्पेश्वर में भी की जाती है। इस मंदिर में ‘जटा’ या हिंदू धर्म की मान्यता प्राप्त तीन त्रिदेवों में से एक, भगवान शिव के उलझे हुए बालों की पूजा की जाती है। कल्पेश्वर मंदिर ‘पंचकेदार’ तीर्थयात्रा में पांचवें स्थान पर आता है। शिव की भुजाएं ‘तुंगनाथ’ में, नाभि ‘मध्यमेश्वर’ में, मुख ‘रुद्रनाथ’ में और जटा ‘कल्पेश्वर’ में प्रकट हुईं। इन चारों स्थानों को पंचकदार के नाम से जाना जाता है। इन चार स्थानों के साथ ही श्री केदारनाथ को ‘पंचकेदार’ भी कहा जाता है।

Story Of Kalpeshwar Mandir

कल्पेश्वर कल्पगंगा घाटी (कल्पगंगा घाटी) में स्थित है। कल्पगंगा को प्राचीन काल में हिरण्यवती कहा जाता था। अपने उचित स्थान पर स्थित तट की भूमि को ‘दुरबासा’ भूमि कहा जाता है। इस स्थान पर ध्यानबद्री का मंदिर है।कल्पेश्वर चट्टान के तल पर एक प्राचीन गुहा है, जिसके गर्भगृह में स्वयंभू शिवलिंग विराजमान है। कल्पेश्वर की चट्टान जटा जैसी दिखती है। पहला कल्प वृक्ष देवग्राम के केदार मंदिर के स्थान पर था। कहा जाता है कि यहां देवताओं के राजा इंद्र ने दुर्वासा ऋषि के श्राप से मुक्ति पाने के लिए शिव की आराधना की थी और कल्पतरु प्राप्त किया था।

शिवपुराण के अनुसार, ऋषि दुर्वासा (ऋषि दुर्वासा) ने कल्प वृक्ष के नीचे तपस्या की थी जिससे उन्हें वरदान मिला था, तभी से इसे ‘कल्पेश्वर’ कहा जाने लगा। केदार खंड पुराण में भी ऐसा ही उल्लेख है कि इस स्थान पर दुर्वासा ऋषि ने तपस्या की थी। कल्प वृक्ष के नीचे बैठकर घोर तपस्या की, तभी से यह स्थान ‘कल्पेश्वरनाथ’ के नाम से प्रसिद्ध हो गया। इसके अलावा अन्य कथाओं के अनुसार असुरों के अत्याचारों से पीड़ित देवताओं ने कल्पस्थल में नारायणस्तुति की और भगवान शिव के दर्शन कर अभय का वरदान प्राप्त किया।

Story Of Kalpeshwar Mandir

कैसे पहुंचे कल्पेश्वर मंदिर

हवाई मार्ग द्वारा: निकटतम हवाई अड्डा देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा है, जो लगभग 250 किलोमीटर (137 मील) दूर स्थित है। हवाई अड्डे से, आप चोपता पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या साझा कैब ले सकते हैं। यात्रा में लगभग 6-7 घंटे लग सकते हैं।

ट्रेन द्वारा: निकटतम रेलवे स्टेशन हरिद्वार है, जो भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हरिद्वार से, आप चोपता पहुँचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या बस ले सकते हैं। हरिद्वार और चोपता के बीच की दूरी लगभग 225 किलोमीटर है।

  • दिल्ली से कल्पेश्वर मंदिर की दूरी: 487 KM
  • देहरादून से कल्पेश्वर मंदिर की दूरी: 280 KM
  • हरिद्वार से कल्पेश्वर मंदिर की दूरी: 275 KM
  • ऋषिकेश से कल्पेश्वर मंदिर की दूरी: 250 KM
  • हल्द्वानी से कल्पेश्वर मंदिर की दूरी: 290 KM

सड़क मार्ग से: सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, और आप टैक्सी किराए पर लेकर या आसपास के कस्बों और शहरों से बस लेकर वहां पहुंच सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *