Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

उत्तराखंड एक स्वर्गीय राज्य है, इसमें कोई संदेह नहीं है, यह स्थान विभिन्न साहसिक गतिविधियों और देवभूमि की पेशकश करता है। यहां का साहसिक पर्यटन भारत के इस हिमालयी राज्य के समग्र पर्यटन उद्योग में एक बड़ा योगदान देता है। उत्तराखंड श्रद्धालुओं का गढ़ है, चाहे वह देवभूमि उत्तराखंड हो, यहां आने वाले पर्यटक इसे दो भागों में बांट देते हैं, एक जो सिर्फ धार्मिक स्थलों के दर्शन करना चाहते हैं और दूसरे जो उत्तराखंड के रोमांचक स्थानों के दर्शन करना चाहते हैं, लेकिन सभी श्रद्धालु और पर्यटक देवभूमि उत्तराखंड का भ्रमण करते हैं। यह जनता के लिए 12 महीने खुला रहता है। उत्तराखंड में आज भी कई पर्यटक साहसिक पर्यटन से अछूते हैं, वही पर्यटक जो एक बार यहां आते हैं, वे दोबारा यहां खिंचे चले आते हैं। यहां ऋषिकेश में गंगा के उफान में राफ्टिंग होती है, चाहे यहां के वन्य जीवों की सवारी हो, हर कोई यहां एडवेंचर करना चाहता है।

यहां के ऊंचे पहाड़ों में ट्रैकिंग करना कोई आसान बात नहीं है, लेकिन एक बार जब आप सफर पर निकल जाएं तो कठिन से कठिन रास्ता भी आसान लगने लगता है। उत्तराखंड वैसे तो साहसिक पर्यटन से भरपूर है, लेकिन बात करें एक खास पर्यटन स्थल की जो हर पर्यटक को उत्तराखंड की ओर आकर्षित करता है।

Things to Do in Uttarakhand

रिवर राफ्टिंग

चाहे वह आराम का समय हो या अपने दोस्तों के साथ मौज-मस्ती से भरी यात्रा, मैं उत्तराखंड में हूं, ऋषिकेश को सूची में शीर्ष पर होना चाहिए। चाहे गंगा की लहरों पर राफ्टिंग का रोमांच हो या गंगा किनारे योगाभ्यास, आपको यहां भरपूर आनंद मिलेगा। जब भी रिवर राफ्टिंग की बात होती है तो सबसे पहले नाम आता है ऋषिकेश का।

Things to Do in Uttarakhand

ऋषिकेश में शिवपुरी रिवर राफ्टिंग लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है क्योंकि यह सबसे अच्छा रिवर रैपिड्स प्रदान करता है जो सर्वोत्तम रिवर राफ्टिंग अनुभव सुनिश्चित करता है।रिवर राफ्टिंग के लिए ऋषिकेश जाने का सबसे अच्छा समय मध्य सितंबर से मध्य दिसंबर और मार्च की शुरुआत से मई तक है।

ट्रैकिंग

ऊंची और शानदार पर्वत श्रृंखलाओं वाला उत्तराखंड, ट्रैकिंग और लंबी पैदल यात्रा के शौकीनों के लिए सबसे अच्छा साहसिक गंतव्य प्रदान करता है। उत्तराखंड में सबसे लोकप्रिय ट्रैकिंग स्थलों में से कुछ हैं काकभुसंडी ट्रेक, चंद्रशिला ट्रेक, देवरिया ताल ट्रेक, रूपकुंड ट्रेक, फूलों की घाटी ट्रेक, पिंडारी ग्लेशियर।ट्रैकिंग के लिए उपयुक्त समय इस बात पर निर्भर करता है कि कहां ट्रैकिंग करनी है और वहां कैसे पहुंचना है, लेकिन भूस्खलन के खतरे के कारण मानसून के मौसम में किसी भी पहाड़ पर ट्रैकिंग करने से बचना चाहिए।

Things to Do in Uttarakhand

बंजी जंपिंग

बंजी जंपिंग एक ऐसी रोमांचक गतिविधि है जिसमें एक बड़ी लोचदार रस्सी से जुड़कर ऊंची संरचना से कूदना शामिल है।उत्तराखंड, ऋषिकेश में विश्व स्तरीय बंजी जंपिंग सुविधाएं प्रदान करता है।ऋषिकेश में मोहन चट्टी पर स्थित, “जंपिन हाइट्स” देश का सबसे ऊंचा बंजी जंपिंग स्पॉट है।यह भारत का एकमात्र स्थान है जहां एक निश्चित मंच से बंजी जंपिंग की जाती है।बंजी जंपिंग के लिए सबसे अच्छा समय वास्तव में साल का कोई भी समय होता है, हालांकि मानसून के दौरान इससे बचने की सलाह दी जाती है।

Things to Do in Uttarakhand

पैराग्लाइडिंग

उत्तराखंड की ऊंची पहाड़ियों पर समतल जगहें पैराग्लाइडिंग के लिए आदर्श जगह हैं। उत्तराखंड में पैराग्लाइडिंग के कुछ स्थान नौकुचियाताल, भीमताल, पिथौरागढ़, देहरादून और ऋषिकेश हैं।यह नौसिखिया और अनुभवी उत्साही दोनों के लिए अत्याधुनिक पैराग्लाइडिंग अवसरों की एक श्रृंखला प्रदान करता है।लंबी दूरी तय करने के लिए कोई क्रॉस-कंट्री पैराग्लाइडिंग का विकल्प भी चुन सकता है।उत्तराखंड में पैराग्लाइडिंग के लिए सबसे अच्छा समय मई से सितंबर तक है।

Things to Do in Uttarakhand

जंगल सफारी

उत्तराखंड में कॉर्बेट और राजाजी राष्ट्रीय उद्यान अपनी प्रसिद्ध वन्यजीव सफारी के लिए पर्यटकों के बीच काफी प्रसिद्ध हैं। कॉर्बेट पार्क भारत का पहला राष्ट्रीय उद्यान है, जिसकी स्थापना 1936 ई. में हेली राष्ट्रीय उद्यान के रूप में की गई थी। यहां जीपों के जरिए कई इलाकों में सफारी की जा सकती है और हाथियों की पीठ पर बैठकर वन्य जीवन का नजारा बेहतरीन तरीके से देखा जा सकता है। , लेकिन वन्यजीव सफारी के लिए सबसे उपयुक्त समय नवंबर से फरवरी तक है।

Things to Do in Uttarakhand

स्कीइंग

स्कीइंग उत्तराखंड के सबसे लोकप्रिय साहसिक खेलों में से एक है। औली में औली स्कीइंग रिज़ॉर्ट विश्व स्तरीय स्कीइंग सुविधाओं की पेशकश के लिए जाना जाता है। यहां की प्राकृतिक ढलानें स्लैलम और क्रॉस-कंट्री जैसी कई स्कीइंग प्रतियोगिताओं के लिए उत्कृष्ट अवसर प्रदान करती हैं। औली में स्कीइंग के लिए सबसे अच्छा समय नवंबर से मार्च के महीनों के दौरान है।

Things to Do in Uttarakhand

गढ़वाल में औली को बुग्याल के नाम से जाना जाता है जिसका अर्थ है “घास का मैदान”। जोशीमठ से सड़क या रोपवे के माध्यम से औली पहुंचा जा सकता है।यहां से नंदा देवी, कामेट और दूनागिरी जैसी विशाल पर्वत चोटियों का मनोरम दृश्य दिखाई देता है।आमतौर पर जनवरी से मार्च तक औली की ढलानों पर लगभग 3 मीटर गहरी बर्फ की चादर बिछी रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *