Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

उत्तराखंड में 1,676 मीटर की ऊंचाई पर कुंजापुरी देवी का दरबार विराजमान है। कुंजापुरी देवी मंदिर एक हिंदू मंदिर है जो ऋषिकेश के पास एक पहाड़ी की चोटी पर है। कुंजापुरी देवी मंदिर टिहरी जिले के तीन शक्तिपीठों में से एक है, अन्य दो सुरकंडा देवी और चंद्रबदनी देवी मंदिर हैं। यह मंदिर सूर्यास्त और सूर्योदय का मंत्रमुग्ध कर देने वाला दृश्य प्रस्तुत करता है। किसी साफ़ दिन पर, कोई भी हिमालय की चोटियों के मनमोहक दृश्यों का आनंद ले सकता है।

Kunjapuri Mata Mandir

एक तरफ से आप स्वर्गारोहिणी, गंगोत्री, बंदरपंच और चौखंबा का विशाल सुरम्य दृश्य देख सकते हैं, जबकि दूसरी तरफ आप ऋषिकेश दून घाटी और हटीद्वार का चमकदार दृश्य भी देख सकते हैं। दशहरा और नवरात्रि के शुभ त्योहार के दौरान दुनिया भर से कई भक्त माता कुंजापुरी का आशीर्वाद लेने के लिए इस स्थान पर आते हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब भगवान शिव माता सती के जले हुए शरीर को कैलाश ले जा रहे थे। उसका जला हुआ हाथ उसके हाथ से छूटकर अलग-अलग स्थानों पर बिखर गया।

भक्तों का मानना ​​है कि माता सती का धड़ इस स्थान पर गिरा था और उसी स्थान पर एक मंदिर बनाया गया था।धार्मिक महत्व एवं महत्व:कुंजापुरी देवी मंदिर भारत में मौजूद 51 शक्तिपीठों में से एक है। श्री आदि शंकराचार्य ने मंदिर की स्थापना की थी। यह तीन शक्तिपीठों के त्रिकोण को पूरा करता है, जो उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में हैं। यह मंदिर चार धाम यात्रा पर जाने वाले भक्तों के लिए एक महत्वपूर्ण पड़ाव बिंदु के रूप में भी कार्य करता है।

Kunjapuri Mata Mandir

कुंजापुरी माता मंदिर और उसके आसपास करने के लिए चीजें

चूँकि मंदिर एकांत स्थान पर है, इसलिए कोई भी यहाँ कई मनोरंजक गतिविधियों में शामिल हो सकता है। आप इसके लिए जा सकते हैंट्रैकिंगफोटोग्राफी का आनंद लेंऔर पक्षी देखना, सर्वोत्तम सूर्योदय का आनंद लेने के लिए, सुबह-सुबह कुंजापुरी देवी मंदिर तक ट्रेक करें। कुंजापुरी देवी मंदिर के पास एक अन्य प्रमुख आकर्षण हिमालय में आनंद स्पा है जो एक लक्जरी स्पा के रूप में जाना जाता है जो कभी गढ़वाल क्षेत्र के परमार राजवंश का शाही महल था। यह नरेंद्र नगर में बनाया गया है।

Kunjapuri Mata Mandir

भ्रमण के लिए आप ऋषिकेश, राजाजी नेशनल पार्क और देहरादून की छोटी यात्राओं की योजना बना सकते हैं। रोमांच प्रेमी हिंडोलाखाल गांव में बस/जीप से उतरकर कुंजापुरी और आसपास के इलाकों में ट्रैकिंग का आनंद ले सकते हैं। कुंजापुरी देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 3 किमी की छोटी चढ़ाई शुरू करनी होगी। यदि आप और अधिक जानना चाहते हैं तो आप ऋषिकेश के तपोवन में लंबी यात्रा का विकल्प चुन सकते हैं। मंदिर तक पहुँचने के लिए यह ऊपर और नीचे की ओर जाता है।

Kunjapuri Mata Mandir

टूर ऑपरेटर आपके लिए ट्रेक का आयोजन करेंगे। आप अपने टूर ऑपरेटरों को बता सकते हैं कि क्या आप सड़क मार्ग से मंदिर के दर्शन करना चाहते हैं या ट्रैकिंग मार्ग से तपोवन क्षेत्र में आना चाहते हैं। पास में एक प्रसिद्ध झरना और पिकनिक स्थल भी मौजूद है जहाँ आप आसानी से नीर गढ़ झरना देख सकते हैं।

कुंजापुरी देवी मंदिर तक कैसे पहुंचें:

कुंजापुरी माता का मंदिर उत्तराखंड के अदली में हिंडोलाखाल मार्ग पर है। यह मंदिर कुंजापुरी पहाड़ी के ऊपर स्थित है। और यह टिहरी गढ़वाल जिले में ऋषिकेश से केवल 27 किमी दूर है। गंगोत्री की ओर जाने वाली सभी बसें कुंजापुरी पहाड़ी से होकर गुजरती हैं। यह ऋषिकेश से लगभग 30 मिनट की ड्राइव पर है।

  • दिल्ली से कुंजापुरी देवी मंदिर की दूरी: 500 K.M.
  • देहरादून से कुंजापुरी देवी मंदिर की दूरी: 308 K.M.
  • हरिद्वार से कुंजापुरी देवी मंदिर की दूरी: 290 K.M.
  • ऋषिकेश से कुंजापुरी देवी मंदिर की दूरी: 265K.M.
  • चंडीगढ़ से कुंजापुरी देवी मंदिर की दूरी: 467 K.M
Kunjapuri Mata Mandir

यहां पहुंचने के लिए आपको 300 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं। मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको हिंडोलाखाल से एक शेयरिंग जीप किराए पर लेनी होगी। यह हिंडोलाखाल से 5 किमी दूर है। 28 किमी दूर स्थित ऋषिकेश रेलवे स्टेशन मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन है। 42 किमी दूर जॉली ग्रांट हवाई अड्डा यहां से निकटतम हवाई संपर्क है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *