Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

देहरादून शहर का कूड़ा तेजी से बढ़ रहा है। शहर के बाहरी इलाकों में टनों कूड़ा-कचरा जमा हो रहा है जिससे लोगों का जीवन बहुत कठिन हो गया है। राजधानी देहरादून से भी सरकार परेशान है। लेकिन अब कूड़े से निपटने के लिए एक नई योजना और विचार बनाया गया है। हम आपको बताना चाहते हैं कि शहर को सुंदर बनाने के लिए प्लास्टिक कबाड़ का उपयोग किया जा रहा है।

हर दिन बढ़ रहे कचरे से मिलेगी मुक्ति

ऐसी कई तरह की चीजें हैं जो बायोडिग्रेडेबल नहीं हैं जैसे टायर से लेकर प्लास्टिक की बोतलें तक अपशिष्ट पदार्थों से बनाई जाती हैं। स्मार्ट सिटी के सहयोग से कचरे से निपटने के लिए कई संगठन एक साथ आए।प्लास्टिक की बोतलों और पॉलिथीन का उपयोग कर विभिन्न प्रकार की इकोब्रिक्स से पार्कों को सजाने वाली संस्था इको ग्रुप सोसायटी के अध्यक्ष आशीष गर्ग ने कहा कि प्लास्टिक कचरे का दुष्प्रभाव हमारे पर्यावरण पर देखने को मिल रहा है।

प्लास्टिक से जंगल, ज़मीन, नदियाँ, हिमालय और जानवर बहुत प्रभावित हो रहे हैं और इसका असर हम देख सकते हैं। सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद ये समस्याएं विकराल होती नजर आ रही हैं। इसलिए, हमने प्लास्टिक कचरे का उपयोग इस तरह से करने के बारे में सोचा कि यह पर्यावरण के लिए हानिकारक होने के बजाय उपयोगी हो जाए। ऐसे में ईंट बनाने का आइडिया काम आया।

कचरे से बनी इको ब्रिक होती है मजबूत और सस्ती

इन्हें इकोब्रिक्स कहा जा रहा है। इसके अलावा पार्कों को प्लास्टिक की बोतलों से सजाया गया है.उन्होंने बताया कि हमारी संस्था उन स्कूलों और कॉलेजों में जाती है जहां प्लास्टिक कचरा बहुतायत में देखने को मिलता है।

स्कूल कार्यालयों और विभिन्न स्थानों से मल्टीलेयर प्लास्टिक एकत्र किया जाता है और फिर इकोब्रिक्स बनाई जाती हैं। उन्होंने बताया कि हमारे स्वयंसेवक इन प्लास्टिक को इकट्ठा करते हैं और उसके बाद हम उनका इस्तेमाल कई तरह की संरचनाओं में करते हैं।

उन्होंने बताया कि उन्होंने गांधी पार्क, राजभवन, मसूरी राजपुर रोड और मियांवाला जैसी जगहों पर ऐसी संरचनाएं स्थापित की हैं। इसके अलावा कई स्कूलों में भी ऐसी संरचनाएं बनाई गई हैं।

इस प्लास्टिक को रोड डिवाइडर में भी बदला जा रहा है जो देखने में बेहद खूबसूरत लगते हैं। उन्होंने बताया कि सरकार के सहयोग से इस कबाड़ को उपयोगी बनाने का प्रयास किया जा रहा है. हमारा उद्देश्य है कि जब तक ये संरचनाएं 60-70 साल तक बनी रहेंगी, प्लास्टिक कचरा इनमें फंसा रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *