Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

उत्तराखंड को देवभूमि यूं ही नहीं कहा जाता। पहाड़, जमीन, झीलों और कई अन्य चीजों की सुंदरता इसे देखने को और अधिक दिलचस्प बनाती है। यहां की धरती प्राकृतिक सुंदरता के साथ-साथ अनजाने रहस्यों से भरी हुई है। पूरे देश में आपको ऐसी कोई जगह नहीं मिलेगी जहां केवल तालाब या बावड़ी के किनारे सीटी बजाने या ताली बजाने से बुलबुले उठते हों। हम आपको उत्तराखंड की एक ऐसी ही रहस्यमयी झील के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसका नाम है मंगलाचू ताल, यहां ताल के किनारे पर ताली या सीटी बजाने से यह ताल बुलबुले के रूप में प्रतिक्रिया करता है।

उत्तराखंड के हर्षिल में स्थित है मंगलाचू ताल

हाँ, आपने सही पढ़ा जब हम इस किनारे पर ताली बजाते हैं या सीटी बजाते हैंइस ताल में ताल के अनुसार बुलबुले निकलते हैं। यह रोमांचकारी और रहस्यमयी तालाब उत्तरकाशी जिले के जिला मुख्यालय से लगभग 80 किमी दूर, मां गंगोत्री के शीतकालीन पड़ाव मुखबा से लगभग 6 किमी की दूरी पर स्थित है। मंगलाचू ताल की सड़क इसी गांव से होकर गुजरती है।

मंगलाचू ताल समुद्र तल से लगभग 3650 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह तालाब मात्र 200 मीटर के दायरे में फैला हुआ है। हर्षिल घाटी में स्थित यह झील अपनी खूबसूरती के लिए दुनिया भर में मशहूर है।

मंगलाचू ताल की विशेषता धार्मिक मान्यता

200 मीटर चौड़े इस मंगलाचू तालाब में कुछ खास है। यह तालाब उत्तराखंड के विश्व प्रसिद्ध स्थल हर्षिल घाटी में स्थित है। मुख्य बात यह है कि यदि आप इस तालाब के किनारे ताली या सीटी बजाने जैसी आवाज करते हैं तो इस तालाब में बुलबुले उठते हैं। चारों ओर गंगोत्री की बर्फ से लदी हिमालय की चोटियाँ विस्तृत क्षेत्र से पर्यटकों को आकर्षित करती हैं।

इसके आसपास की घाटियों में अनोखी शांति का एहसास होता है। तालाब के किनारे आवाज करते हुए तालाब से निकलते बुलबुले को देखना अपने आप में एक रोमांचकारी अनुभव है।

स्थानीय लोगों के अनुसार बताया जाता है कि ”जब सोमेश्वर देवता को हिमाचल से यहां लाया गया था तो देवता को पहला स्थान इसी तालाब में दिया गया था। इसलिए मंगलाछू ताल को सोमेश्वर देवता ताल भी कहा जाता है। तालाब के बारे में यह भी मान्यता है कि यहां पूजा करने से बारिश होती है। स्थानीय लोगों का कहना है कि यदि कोई इस तालाब को अपवित्र कर देता है तो अत्यधिक वर्षा का सामना करना पड़ता है।

बुलबुला तालाब मंगलाचू ताल के बारे में वैज्ञानिक दृष्टिकोण

एक शोध के अनुसार कहा जाता है कि हिमालयी क्षेत्रों में कुछ ऐसे स्थान हैं जहां पानी धरती के अंदर से बारीक छिद्रों के माध्यम से बाहर निकलता है। जब इसके चारों ओर हलचल या ध्वनि होती है, तो वायु पृथ्वी की बारीक दरारों के माध्यम से पानी पर दबाव डालती है। इसके कारण तालाब के ऊपर पानी बुलबुले के रूप में आता हुआ प्रतीत होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *