Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

यह पहाड़ हर कदम पर खूबसूरती और रहस्यमयी कहानियों से भरा हुआ है। आपको विभिन्न देवताओं को समर्पित विभिन्न मंदिर मिलेंगे और उनसे जुड़ी विभिन्न कहानियाँ हैं। ऐसा ही एक ऐतिहासिक महत्व का मंदिर है पिथौरागढ़ में। हम आज यहां आपको लाटेश्वर महादेव मंदिर के बारे में जानकारी प्रदान कर रहे हैं। आप मंदिर तक पहुंच सकते हैं थलकेदार से लगभग 2500 फीट की ढलान पर दुर्गम रास्ता पार करने के बाद आप बड़ाबे गांव के पास लटेश्वर महादेव मंदिर पहुंचेंगे। यहीं पर एक विशाल चट्टान टूटकर गुफा में तब्दील हो गयी थी, यहीं पर देवता “लाटा” की स्थापना हुई थी। श्री लाटेश्वर महादेव मंदिर एक प्राचीन पूजा स्थल है।

Lateshwar mahadev mandir

संकरी गुफा में जाकर भगवान की पूजा की जाती है

श्री लाटेश्वर महादेव मंदिर एक प्राचीन पूजा स्थल है। ऐसा कहा जाता है कि जब बाराबे या बड़ाबे गांव के वर्तमान निवासी कहीं और से आकर यहां बसे तो उनके इष्टदेव “लाटा” लटेश्वर भी उनके साथ यहां आये। इस संदर्भ में स्थानीय किंवदंतियाँ भी प्रचलित हैं।

बड़ाबे या बड़ाबे गांव के बारे में जानकारी यह है कि यह गांव पिथौरागढ़ मुख्यालय से 25 किमी की दूरी पर स्थित है। यहां पहुंचने के लिए आपको पिथौरागढ़ से लोकल टैक्सी मिल जाएगी। बाराबे या बड़ाबे गांव प्रकृति की गोद में स्थित है, यहां चारों ओर हरियाली है और नीले आकाश का अद्भुत रंग है।

Lateshwar mahadev mandir

लाटेश्वर महादेव मंदिर की गुफा बहुत संकरी है। यही कारण है कि हमारे लिए यहां तक ​​पहुंचना बहुत मुश्किल है। गुफा के अंदर साफ पानी का स्रोत है। स्थानीय लोग इसे गुप्त गंगा मानते हैं और इसका जल गंगा के समान ही पवित्र है। कहा जाता है कि इस पानी के सेवन से त्वचा के विभिन्न रोग ठीक हो जाते हैं और बच्चों का हकलाना बंद हो जाता है। पहले गुफा मंदिर में ही पूजा होती थी। वर्तमान में ग्रामीणों के प्रयास से यहां मंदिर एवं धर्मशाला का निर्माण कराया गया है।

लाटेश्वर महादेव मंदिर जिन्हें नंदीगण भी कहा जाता है, अपने अधीनस्थ 52 गणों के अधिपति हैं। शरद पूर्णिमा पर लगभग 2000 श्रद्धालु यहां आकर पूजा-पाठ, भजन-कीर्तन करते हैं और रात्रि में निराहार रहते हैं। सुबह स्नान करने के बाद हम पुनः भगवान के दर्शन करते हैं। फिर दोपहर को मेला लगता है।

Lateshwar mahadev mandir

लोक कथाओं के अनुसार कहा जाता है कि बाराबे या बड़ाबे गांव के पास हल्दू नामक स्थान पर लाटेश्वर महादेव और एक राक्षस के बीच लड़ाई हुई थी। 22 हाथ लंबी कलगी वाले राक्षस ने यहां बहुत आतंक मचा रखा था। लटेश्वर महादेव ने अपना सिर उखाड़ लिया और राक्षस वहां से भाग गया। लोगों का मानना ​​है कि लाटेश्वर महादेव मंदिर की कृपा से भूत-पिशाच यहां कभी नहीं आते।

‘लाटा’ कुमाऊँ क्षेत्र (उत्तराखंड) के उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों की एक लोकप्रिय लोक देवी है। यह चंपावत जिले के अत्यंत पूजे जाने वाले देवता चामलदेव ‘चामू’ का एक समूह था। चौमू की देवगाथा में कहा गया है कि जब चौमू ने उसे (लाटा को) अपने अन्य गिरोह के साथ एक दुष्ट राक्षस को मारने के लिए भेजा था, तो शक्तिशाली राक्षस ने उन दोनों को हरा दिया और एक की जीभ और दूसरे का पैर तोड़ दिया। परिणामस्वरूप, जीभ काटने के कारण जब वह गूंगा (लाटा) हो गया, तो उसे लता के नाम से जाना जाने लगा और उसी नाम से उसकी पूजा भी की जाने लगी।

Lateshwar mahadev mandir

लाटेश्वर महादेव मंदिर तक कैसे पहुंचे

हवाई मार्ग द्वारा: पिथौरागढ का निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा (213 किमी) हैट्रेन द्वारा: पिथौरागढ़ का निकटतम रेलवे स्टेशन टनकपुर (149 किमी) या हलद्वानी के पास काठगोदाम है।

सड़क मार्ग द्वारा: पिथौरागढ़ और कामाख्या देवी मंदिर के बीच लगभग 10 किलोमीटर की दूरी है।

  • काठगोदाम से लाटेश्वर महादेव मंदिर की दूरी: 503 किमी
  • नैनीताल से लाटेश्वर महादेव मंदिर की दूरी: 330 किमी,
  • दिल्ली से लाटेश्वर महादेव मंदिर की दूरी: 212 किमी
  • टनकपुर से लाटेश्वर महादेव मंदिर की दूरी: 150 किमी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *