Warning: Attempt to read property "post_excerpt" on null in /home/u525298349/domains/jeanspants.info/public_html/wp-content/themes/blogus/single.php on line 77

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने एक ऐसी योजना शुरू की है जो छात्रों के लिए बहुत फायदेमंद होगी और उन्हें पढ़ाई में अधिक से अधिक प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने प्रदेश के सभी विकास खण्डों के हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट के टॉपर छात्र-छात्राओं के लिए भारत दर्शन शैक्षिक भ्रमण कार्यक्रम संचालित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह भारत दर्शन कार्यक्रम विद्यार्थियों में एक विशेष भावना जागृत करेगा, जिससे वे भारत की विविधता, इतिहास, संस्कृति, शिष्टाचार एवं प्रकृति को व्यक्तिगत रूप से जान सकेंगे।

Free bharat darshan to the meritorious student of Uttrakhand

बच्चो को और सुदृढ़ बनाएगा ये टूर देश को करीब से जानने का मौका

इसमें इन विद्यार्थियों में समूह में रहने की प्रवृत्ति, नायक बनने की क्षमता तथा आत्मविश्वास एवं भाईचारे की भावना सुदृढ़ होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह कार्यक्रम न केवल चयनित मेधावी विद्यार्थियों के जीवन को एक नई दिशा देगा बल्कि उन्हें अपनी शैक्षणिक गतिविधियों में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए भी प्रेरित करेगा।

इससे पहले भी उत्तराखंड सरकार युवाओं को लेकर कई फैसले ले चुकी है. खेल के मैदान पर लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाले युवाओं को स्कॉलरशिप मिल रही है। इसके अलावा खिलाड़ियों के लिए सरकारी नौकरियों पर भी फैसला लिया गया।

”वर्ष 2020 में नए युग की नई चुनौतियों का सामना करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नई शिक्षा नीति हमारे सामने रखी गई। नई शिक्षा नीति से जहां एक ओर स्कूली शिक्षा और उच्च शिक्षा को नयापन मिलेगा आयाम; दूसरी ओर, यह सभी वर्गों के लोगों को समानता के आधार पर शिक्षा प्राप्त करने का अवसर भी प्रदान करेगा। धामी ने कहा, “स्कूल स्तर पर कौशल विकास युवाओं को कुशलतापूर्वक काम करने में सक्षम बनाएगा।

Free bharat darshan to the meritorious student of Uttrakhand

“मुख्यमंत्री का मानना ​​है कि किसी भी देश का सामाजिक और आर्थिक विकास उस देश में छात्रों को प्रदान की जाने वाली शिक्षा की गुणवत्ता पर निर्भर करता है।स्कूली शिक्षा में नई शिक्षा नीति लागू करने वाला उत्तराखंड देश का पहला राज्य है। नई शिक्षा नीति के माध्यम से बच्चों को रोजगारोन्मुखी शिक्षा के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता हासिल करने में भी मदद मिलेगी। इससे शोध को भी बढ़ावा मिलेगा और छात्रों में वैज्ञानिक सोच विकसित होगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *